Skip to main content

Scribble 3




I am in slippers, I am in shorts
Who cares I am with friends
People are laughing looking at us
Who cares I am with friends
I don't have to do my hair
I don't need to need to impress
I am laughing like an idiot
I am drunk like hell
I don't feel scared anymore
I have to pretend no more
Some idiot thinks I am useless?
Who cares I am with friends
My ex didn't look back
Who cares I am with friends
I eat, drink, buy, text, walk, think, talk and breathe the way I want
Don't bother me I am with friends



Comments

  1. Hi! I just wanted to ask if you ever have any issues with hackers?

    My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing months of
    hard work due to no back up. Do you have any methods to protect against hackers?
    Also see my site: Looking for Fashion

    ReplyDelete
  2. Haven't had any till now but seriously I don't have any such plan. Would check your place.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Scribble 5

Why there are voices in my head Contrasting to what I get Grow up, grow they say You have to find your way If you haven’t started yet How far will you get What if you reach nowhere? What if you are too late to be there?
The voices are just too smart I don’t think they even have a heart They say these are the ways of world You have to run run and run They command not to look back They insist it’s just too dark They say there is a lot to fear I say I don’t care
I tell them that I can see mum back there They ask how will she get here Mirages are not for real Shut the fuck up and get over the ordeal
I sigh that I have no one They question the need for someone They insist it’s not a usual journey It’s over friends, family, luxuries and money
I whisper am I mad I ask if I am mad I shout if I am mad I scream if I am mad But the voices just don’t come back


मेरी कहानी बिखर गयी

खोले डाइयरी के कुछ पुराने पन्ने अभी
और मेरी कहानी बिखर गयी

कुछ सपने गिरे कवर के छेद से
जैसे रिहा हुए हों क़ैद से

मिली लाश कुछ वादों की वहाँ
ना जाने कब किए थे खुदसे और कहाँ

कुछ पन्नो बाद वो बे-अदब ‘मैं’ भी निकला
ना डर था जिससे और ना कोई परवाह

बे-अदब ‘मैं’ मुझसे पूछता है
ये यहाँ एक अजीब सा शोर क्यूँ है
तेरी सोच में आगे निकालने की होड़ क्यूँ है
ये क्या तेरी आम सी ज़िंदगी है
ये कौन है तू
ये क्या बन गया है तू

समझ ए बे-अदब
नासमझ है इसीलिए तो हराम है तू
दुनिए के कितने कायदों से अंजान है तू
कुछ सलीखा सीख ले जीने का अब तो
नुस्खे ले कामयाबी के अब तो

किन कायदों की बात करता है तू
किन वादों की बात करता है तू
देख खुद को आईनो मे कभी
क्या था और क्या है अब तू

सुन ओ क़ायदे पढ़ने वाले
सुन ओ सलीखे सिखाने वाले
तू कोई मसखरा तो नहीँ
क्योंकि तू ‘मैं’ तो नहीं हो सकता

कहाँ गयी है मेरी वो बेपरवाही
कहाँ है मेरा वो…

'ठा से' चुप करवाया फिर उसे
कवर, पन्नो और ड्रॉयर में दबाया फिर उसे

बंद किए डाइयरी के कुछ पुराने पन्ने अभी
और मेरी कहानी दफ़्न हुई

Yaad Rahunga

याद रहूँगा मैं क्या तुमको
बादल जब मेरी स्याही बरसायेंगे

कितनी बारिशें, कितने मौसम
मेरे ख़त बन जाएंगे

दो पल हों जो पास तुम्हारे
मुट्ठी में तुम मेरी कहानी पकड़ लेना

कभी जो तुम हो थोड़ी अकेली
इसे इत्मीनान से पढ़ लेना

दूर सही मैं और न तुमको ज़रुरत
पर इन साँसों को भी हिचकी का सहारा दे देना

याद रहूँगा मैं क्या तुमको
बादल जब मेरी स्याही बरसायेंगे

कितनी बारिशें, कितने मौसम
मेरे ख़त बन जाएंगे